बिजनेस में बढ़ोतरी के लिए मुखिया इस दिशा में करके बैठे मुंह, जानिए अन्य दिशाओं के बारे में

109
925
Spread the love

वास्तु शास्त्र के अनुसार हर दिशा का संबंध किसी न किसी ऊर्जा से माना जाता है । किसी भी काम को करने की दिशा ही हमारी सफलता को दर्शाती है।

बिजनेस में बढ़ोतरी के लिए मुखिया इस दिशा में करके बैठे मुंह, जानिए अन्य दिशाओं के बारे में

वास्तु शास्त्र के अनुसार हर दिशा का संबंध किसी न किसी ऊर्जा से माना जाता है । किसी भी काम को करने की दिशा ही हमारी सफलता को दर्शाती है। ऐसे ही कुछ कामों के बारे में जानिए आचार्य इंदु प्रकाश से। 

दुकान या ऑफिस में काम करते समय, उसके मुखिया का मुंह हमेशा उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए। इससे काम में हमेशा सफलता मिलती है और बिजनेस में बढ़ोतरी होती है। पढ़ाई करते समय विद्यार्था का मुंह पूर्व दिशा की ओर हो तो सबसे अच्छा माना जाता है।

ज़रूर पढ़ें : भूलकर भी न करें ये 10 काम, नाराज होंगे महादेव – आज है महेश नवमी

बाकी उत्तर या पश्चिम दिशा में मुंह करके भी पढ़ सकते हैं। खाना बनाते समय ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि खाना बनाने वाले का मुंह पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा की ओर हो। इससे खाना बनाने वाले की सेहत हमेशा अच्छी बनी रहती है। साथ ही खाना खाने वाले के मुंह की दिशा भी पूर्व या उत्तर दिशा में होनी चाहिए। इससे शरीर को मिलने वाली ऊर्जा पूरी तरह से मिलती है।


Spread the love

109 COMMENTS

  1. I needed to post you that little bit of observation to say thanks once again for your personal marvelous principles you’ve featured in this article. It is quite seriously open-handed with you to provide unreservedly what most people would have sold for an electronic book to help with making some profit on their own, primarily since you might well have tried it in the event you wanted. Those things likewise worked to become a great way to recognize that someone else have the same passion similar to my very own to see very much more with regard to this problem. I know there are some more pleasurable situations up front for those who see your website.

  2. I have recently started a blog, the info you provide on this web site has helped me greatly. Thanks for all of your time & work. “My dear and old country, here we are once again together faced with a heavy trial.” by Charles De Gaulle.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here