उत्तराखंड का ये युवा और इसकी टीम गरीबो की कर रहे है एसे सहाय व सेवा कार्य

25
698
Spread the love

नैनीताल, उत्तराखंड के नैनीताल, हल्द्वानी ओर आसपास के विस्तार ओर पहाड़ी विस्तारों में विकाश भगत ओर उनकी टीम दिन – रात देखे बिना गरीब – बेसहारा लोगों को खाना, खाने का सामान ओर राशन की चिजे पहुँचा रहे है

उत्तराखंड का ये युवा और इसकी टीम गरीबो की कर रहे है एसे सहाय व सेवा कार्य

आज दिन 38 आज साई भक्ति संस्थान के सहयोग अभियान के लगातार 38 वे दिन भीमताल ब्लॉक और नैनीताल तहसील के ग्राम सभा बेल के हेड़ी ग्राम में ऐसे लोगो को राशन के पैकेट का सहयोग करने का सौभाग्य मिला जिनकी आजीविका कोरोनॉ के लॉक डाउन से रुक गई है।

उत्तराखंड का ये युवा और इसकी टीम गरीबो की कर रहे है एसे सहाय व सेवा कार्य

सब से पहले वो गाड़ी से राशन ले कर ग्राम सभा बेल के अनरोड़ी पहुचे। वहां से घोड़ो में राशन को लाद कर पैदल 4 किलोमीटर हेड़ी पहुचे। गांव में आने पर गांव के लोगो ने उनका स्वागत किया जिसका वे ह्रदय से आभारी थे।

उत्तराखंड का ये युवा और इसकी टीम गरीबो की कर रहे है एसे सहाय व सेवा कार्य

आज सहयोग करने वाले लोगो मे प्रधान संजय गेंडा जी, BDC सदस्य सुरेश उप्रेती जी,गौरव जोशी जी, अक्षय सुयाल जी,मनीष आर्य जी,हरिश भट्ट जी,पुष्कर तड़ागी जी, डूंगर देव ओर पंकज मलरा जी प्रमुख रहे।

विकास भगत के अभियान का आज लगातार 38 वा दिन है और इस अभियान में विकास ने 1500 के आस पास परिवारों को राशन के पैकेट दिए है।अपने इस अभियान के बारे में विकास बताते है की वो जब राशन बाटने जाते है तो कहीं ये नही बताते की वो कौन है। और विकास ने कहा की जिनको वो राशन देते है उनकी सिर्फ ये जानकारी वो जुटाते है की वो लोग वर्तमान में कोरोनॉ वायरस की वजह से उनकी आजीविका रुकी है।

विकास भगत ने कहा की उनका मकसद सिर्फ सहायता करना है ओर वो दूरस्थ गावो तक पहुचे है जहां जरूरत है चाहे को कोटाबाग के गांव हो या भीमताल ब्लॉक के पहाड़ पर पैदल 6 किलोमीटर भादुनि या 8 किलोमीटर पहाड़ पर मोरा हो या फिर टाडा जंगल के खतते हो या फिर हल्द्वानी के सुगम स्थल विकास ने बताया की इस अभियान में वो खुद कच्चा राशन दे रहे है और साथ ही उंचापुल में साई मंदिर का प्रसादालय बनाया गया है जिनमे रोज 39 दिन से लगभग 300 लोग भोजन करते है।साई मंदिर से अब तक 11000 भोजन के पैकेट बाटे जा चुके है।


Spread the love

25 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here