अस्पताल में घायल सैनिकों से मिले पीएम मोदी, कहा दुनिया ने आपका साहस देखा

51
1500
Spread the love

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 जून की गलवान घाटी संघर्ष में घायल हुए सैनिकों से मुलाकात की और वीर जवानों को संदेश देते हुए कहा कि आपके साहस को दुनिया ने देखा है।

अस्पताल में घायल सैनिकों से मिले पीएम मोदी, कहा दुनिया ने आपका साहस देखा

रामधारी सिंह दिनकर ने यह कविता उन वीरों को समर्पित कर लिखी थी जिन्होंने अपना सर्वस्व इस देश पर न्योछावर कर दिया लेकिन अपने लिए कभी कुछ नहीं मांगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लेह में अपने संबोधन में राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की कालजयी कविता ‘कलम आज उनकी जय बोल’ का जिक्र किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- ‘जिनके सिंहनाद से सहमी…धरती रही अभी तक डोल…कलम, आज उनकी जय बोल…। रामधारी सिंह दिनकर ने यह कविता उन वीरों को समर्पित कर लिखी थी जिन्होंने अपना सर्वस्व इस देश पर न्योछावर कर दिया लेकिन अपने लिए कभी कुछ नहीं मांगा। इसी कविता में दिनकर ने लिखा है।

जला अस्थियां बारी-बारी चिटकाई जिनमें चिंगारी
जो चढ़ गये पुण्य वेदी पर
लिए बिन गर्दन का मोल
कलम, आज उनकी जय बोल।

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अचानक लेह का दौरा किया और यहां सैनिकों को संबोधित भी किया। उन्होंने सैनिकों से कहा कि आपकी इच्छाशक्ति हिमालय की तरह मजबूत और अटल है, देश को आप पर गर्व है। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम सशस्त्र बलों की जरूरतों पर पूरा ध्यान दे रहे हैं।

उन्होंने चीन पर निशाना साधते हुए कहा कि विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया है; यह विकास का समय है। इसी संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रकवि रामधारी की इन पंक्तियों को सुनाकर सैनिकों का मनोबल बढ़ाया।

अस्पताल में घायल सैनिकों से मिले पीएम मोदी, कहा दुनिया ने आपका साहस देखा

Spread the love

51 COMMENTS

  1. An interesting discussion is price comment. I feel that it’s best to write more on this matter, it might not be a taboo topic but generally people are not enough to talk on such topics. To the next. Cheers

  2. Hey there! Do you know if they make any plugins to assist with SEO? I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good gains. If you know of any please share. Appreciate it!

  3. Most of whatever you say is supprisingly precise and it makes me wonder the reason why I had not looked at this in this light before. This article really did turn the light on for me personally as far as this issue goes. Nonetheless there is just one factor I am not really too cozy with and whilst I attempt to reconcile that with the main idea of the position, allow me see what the rest of the readers have to point out.Well done.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here