ऐरावतेश्वर मंदिर ओर यम भगवान का नाता ओर मंदिर की शिल्प कला जाने

0
430
Spread the love

ध्रुव आचार्य :- ऐरावतेश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। शिव को यहां ऐरावतेश्वर के रूप में जाना जाता है क्योंकि इस मंदिर में देवताओं के राजा इंद्र के सफेद हाथी एरावत द्वारा भगवान शिव की पूजा की गई थी। ऐसा माना जाता है कि ऐरावत ऋषी दुर्वासा के श्राप के कारण अपना रंग बदल जाने से बहुत दुखी था, उसने इस मंदिर के पवित्र जल में स्नान करके अपना रंग पुनः प्राप्त किया। मंदिर के भीतरी कक्ष में बनी एक छवि जिसमें ऐरावत पर इंद्र बैठे हैं, के कारण इस धारणा को माना जाता है। इस घटना से ही मंदिर और यहां आसीन इष्टदेव का नाम पड़ा.

આ ફક્ત મંદિર નથી. આ આપણાં પૂર્વજોની કાર્યદક્ષતા અને શ્રેષ્ઠતાનો ઇતિહાસ પથ્થરો પર લખેલો છે.

कहा जाता है कि मृत्यु के राजा यम ने भी यहाँ शिव की पूजा की थी। परंपरा के अनुसार यम, जो किसी ऋषि के शाप के कारण पूरे शरीर की जलन से पीड़ित थे, ऐरावतेश्वर भगवान द्वारा ठीक कर दिए गए। यम ने पवित्र तालाब में स्नान किया और अपनी जलन से छुटकारा पाया। तब से उस तालाब को यमतीर्थम के नाम से जाना जाता है।

જૂનું ઐરાવતેશ્વર મંદિર, દારાસુરમ, કુમ્બાકોનમ, તમિલનાડુ

ऐरावतेश्वर मंदिर, द्रविड़ वास्तुकला का एक हिंदू मंदिर है जो दक्षिणी भारत के तमिलनाड़ु राज्य में कुंभकोणम के पास दारासुरम में स्थित है। 12वीं सदी में राजराजा चोल द्वितीय द्वारा निर्मित इस मंदिर को तंजावुर के बृहदीश्वर मंदिर तथा गांगेयकोंडा चोलापुरम के गांगेयकोंडाचोलीश्वरम मंदिर के साथ यूनेस्को द्वारा वैश्विक धरोहर स्थल बनाया गया है; इन मंदिरों को महान जीवंत चोल मंदिरों के रूप में जाना जाता है।

ऐरावतेश्वर मंदिर ओर यम भगवान का नाता ओर मंदिर की शिल्प कला जाने

यह मंदिर कला और स्थापत्य कला का भंडार है और इसमें पत्थरों पर शानदार नक्काशी देखने को मिलती है। हालांकि यह मंदिर बृहदीश्वर मंदिर या गांगेयकोंडाचोलीश्वरम मंदिर से बहुत छोटा है, किंतु विस्तार में अधिक उत्तम है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कहा जाता है कि यह मंदिर नित्यविनोद, “सतत मनोरंजन, को ध्यान में रखकर बनाया गया था।

ऐरावतेश्वर मंदिर ओर यम भगवान का नाता ओर मंदिर की शिल्प कला जाने

इस मंदिर में विभिन्न शिलालेख हैं। इन लेखों में से एक में कुलोतुंगा चोल तृतीय द्वारा मंदिरों का नवीकरण कराए जाने का पता चलता है।

ऐरावतेश्वर मंदिर ओर यम भगवान का नाता ओर मंदिर की शिल्प कला जाने

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here