लद्दाख: भारत चीन बॉर्डर पर खूनी झड़प, सेना के कर्नल और 2 सैनिक शहीद, चीन को भी भारी नुकसान

50
1607
Spread the love

लद्दाख में भारत चीन बॉर्डर से आई बुरी खबर, 40 वर्ष में पहली बार किसी सैनिकों की मृत्यु

लद्दाख: भारत चीन बॉर्डर पर खूनी झड़प, सेना के कर्नल और 2 सैनिक शहीद, चीन को भी भारी नुकसान

लद्दाख में एलएसी पर जारी संकट के बीच भारत के लिए एक बुरी खबर आई है। चीनी सेना के साथ मुठभेड़ में एक अधिकारी सहित सेना के 2 जवान शहीद हो गए हैं। सेना के अनुसार इस तनाव के बीच कोई फायरिंग नहीं हुई है। गलवान घाटी में सेनाओं को पीछे करने की कवायद के दौरान दोनों देशों की सेनाओं में झड़प हुई है। इसी झड़प में सेना को यह नुकसान हुआ है। इस बीच खबर आई है कि चीनी सेना को भी इस झड़प में नुकसान हुआ है। बताया जा रहा है कि झड़प में चीनी सैनिकों के मारे जाने की खबर है। हालांकि कितने सैनिक मारे गए हैं। इस बारे में फिलहाल कोई खुलासा नहीं हो पाया है।  

बताया जा रहा है कि एलएसी पर सोमवार रात करीब 2 से तीन घंटे दोनों ओर से सैनिकों की झड़प हुई। सीमा पर भारत और चीन के बीच कमांडर लेवल की बातचीत के बीच इस घटना से तनाव बढ़ गया है। बताया जा रहा है कि सोमवार देर रात चीन और भारतीय सेनाओं के बीच विवाद काफी बढ़ गया। जिसमें भारत को बड़ा नुकसान हुआ है। बता दें कि 1962 के बाद पहली बार भारत चीन विवाद के बीच किसी सैनिक के शहीद होने का मामला सामने आया है।

खबर है कि चीन की इस कार्रवाई के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीडीएस और तीनों सेनाओं के प्रमुख से बात की है। इस बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर भी मौजूद रहे। बैठक में गलवान घाटी में हुई इस घटना के बारे में ताजा जानकारी ली गई। 

भारत पर चीन ने लगाया आरोप 

इस बीच चीन के विदेश मंत्रालय का बयान सामने आया है। चीन ने भारतीय सेना पर सीमा पार करने करने का आरोप लगाया है। साथ ही चीन ने भारतीय सैनिकों पर भी हमला करने का आरोप लगाया है। चीन ने अपने बयान में कहा है कि हम चाहते हैं ​कि भारत एकतरफा कार्रवाई न करे। घटना के बाद सेना के वरिष्ठ अधिकारी गालवान वैली पहुंच चुके हैं। बताया जा रहा है कि चीनी सैनिक कंटील तार और पत्थर साथ में लेकर आए थे।

भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग सो, गलवान घाटी, डेमचोक और दौलत बेग ओल्डी में पांच सप्ताह से अधिक समय से गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। चीनी सेना के जवान बड़ी संख्या में पैंगोंग सो समेत अनेक क्षेत्रों में सीमा के भारतीय क्षेत्र की तरफ घुस आए थे। भारतीय सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के उल्लंघन की इन घटनाओं पर कड़ी आपत्ति व्यक्त करती रही है और उसने क्षेत्र में अमन-चैन की बहाली के लिए चीनी सैनिकों की तत्काल वापसी की मांग की है।


Spread the love

50 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here