चीन के 59 ऐप बैन करने के बाद भारत के इन प्रोजेक्ट्स से चीनी कंपनियों को आउट करने की तैयारी

57
788
Spread the love

भारत के कड़े रुख ने चीन के होश ठिकाने लगा दिए हैं। चीन ने पहले भारत की दोस्ती देखी थी, स्वागत देखा था और अब गुस्सा देख रहा है। पहले दूरसंचार विभाग ने चीन को अपने प्रोजेक्ट से अलग किया, फिर रेलवे ने अपने आप को चीन से अलग किया।

नई दिल्ली: चीन के 59 ऐप्स को बैन करने के फैसले पर भारत को अमेरिका का साथ मिला है। अमेरिका ने कहा है कि भारत ने अपने संप्रभुता, अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा को देखते हुए ये सही फैसला लिया है। उधर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने भी ऐलान किया है कि सड़क और हाईवे के हर प्रोजेक्ट से चीनी कंपनियों को आउट किया जाएगा।

भारत के कड़े रुख ने चीन के होश ठिकाने लगा दिए हैं। चीन ने पहले भारत की दोस्ती देखी थी, स्वागत देखा था और अब गुस्सा देख रहा है। पहले दूरसंचार विभाग ने चीन को अपने प्रोजेक्ट से अलग किया, फिर रेलवे ने अपने आप को चीन से अलग किया और अब चीनी कंपनियों को हाइवे प्रोजेक्ट्स में भी काम नहीं मिलेगा। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ये फैसला किया है कि अब चीनी कंपनियों से कोई दोस्ती नहीं।

सरकार जल्दी ही हाईवे प्रोजेक्ट्स में चीनी कंपनियों को काम देने पर रोक लगाने वाली है। चीन की कंपनियों को ज्वाइंट वेंचर पार्टनर के तौर पर भी काम नहीं करने दिया जाएगा। नितिन गडकरी ने कहा, “सरकार जल्द ही एक पॉलिसी लाएगी और उसके बाद चीन को हर प्रोजेक्ट से किनारे कर दिया जाएगा। ये चीन पर अब तक की सबसे गहरी आर्थिक चोट होगी।”

सरकार जल्द ही बड़े हाईवे प्रोजेक्ट्स के लिए बीडिंग से जुडे प्रोसेस में बदलाव करने वाली है। कोशिश होगी कि बीडिंग प्रॉसेस में ज्यादा से ज्यादा भारतीय कंपनियां हिस्सा ले सकें। सरकार चीन के इंवेस्टर्स को भारत के माइक्रो, स्मॉल और मीडियम स्केल उद्योगों में निवेश करने से भी रोकने वाली है।

मौजूदा वक्त में कुछ परियोजनाओं में चीनी कंपनियां पहले से भागीदार हैं। इस बारे में एक सवाल के जवाब में गडकरी ने कहा कि नया निर्णय मौजूदा और भविष्य के बीडिंग से जुडे प्रोसेस पर लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि किसी परियोजना में शामिल कंपनी की सहयोगी चीनी कंपनी है तो उसके लिए पुन: टेंडर निकाली जाएगी। गडकरी ने कहा कि सरकार घरेलू कंपनियों के लिए नियमों को आसान कर रही है ताकि वह बड़ी परियोजनाओं के लिए बोली लगा सकें। 

सरकार की पूरी कोशिश है कि चीन को हर तरीके से बता देना है कि उसने भारत को छेड़कर कितनी बड़ी भूल कर दी है। पहले 59 एप बैन किया गया और अब बैन किए गए Weibo में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना अकाउंट भी बंद कर दिया। कुल मिलाकर चीन को घेरने के लिए सरकार चौतरफा नीति पर काम कर रही है।

चीन के 59 ऐप बैन करने के बाद भारत के इन प्रोजेक्ट्स से चीनी कंपनियों को आउट करने की तैयारी

Spread the love

57 COMMENTS

  1. I loveɗ as much as you’ll receіve carried out right here.
    Ꭲhe sketһh iѕ attractive, your authored subject matteг stylish.
    nonetheless, yοu command get boughjt an impatience over that you wish
    be delivering the following. unwell unqᥙestionably comе more formerly gain as exactly
    thee same nearly a lߋot often inside case you shield this
    hike.

    Herе is my webpage … free chat online singles

  2. Pleɑse let me қnow if you’re looкing for
    a aսthor for your blog. Υou have some really good posts and I believe I would bе a good asset.

    If you ever want to take some oof the load off, I’d really liҝe
    to write some content for your bloց in exchange for a lonk baϲk to mine.
    Ꮲlease send me an e-maiⅼ if interested.
    Many thanks!

    Feel free to surf to my web blog … payday cash advance loans online

  3. hey there and thank you in your info – I’ve definitely picked up anything new from proper here. I did then again experience a few technical issues the use of this site, as I experienced to reload the website a lot of occasions prior to I may get it to load properly. I were thinking about if your hosting is OK? No longer that I’m complaining, but slow loading cases times will often have an effect on your placement in google and can damage your quality score if advertising and ***********|advertising|advertising|advertising and *********** with Adwords. Anyway I’m adding this RSS to my email and can glance out for a lot more of your respective exciting content. Make sure you update this once more very soon..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here