चीन ने पैंगोंग सो से 4 KM ईस्ट में रडार लगाए, भारत की हर गतिविधि पर रखना चाहता है नजर

1
347
Spread the love

चीनी लोगों को चीनी फ़ौज सारा सामान दे रही है ताकि वो दिन और रात लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल की निगरानी करने में साथ दे सके।

नई दिल्ली. चीन के साथ LAC पर तनाव जरूर कुछ कम हुआ है लेकिन एक्सपर्ट्स लगातार ये कह रहे हैं कि चीन पर विश्वास नहीं किया जा सकता। इसकी वजह भी है, एक तरह जहां चीन पीछे हटने की बात कर रहा है वहीं दूसरी तरफ उसने पेंगोंग शोके चार किलोमीटर ईस्ट में Khurnak fort के पास ड्रॉप टारगेट acqisiton रडार लगाए। ये जगह नॉर्दन बैंक पेंगोंग सौ पर है। यहां से चीन भारत की हर एक गतिविधि को मॉनिटर करना चाहता है और कर रहा है।

सूत्रों से मिली खबर के अनुसार, चीन लोकल लोगों के ज़रिए लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल की रेकी करवा रहा है। इन सभी को इनके बॉर्डर गार्डिंग सिक्योरिटी या फिर पब्लिक गार्डिंग सिक्योरिटी के जवानों ने अपनी जैकेट सामान और अलग अलग कपड़े दिए हैं। इन कपड़ों पर चाइनीज़ भाषा में पब्लिक गार्डिंग सिक्योरिटी लिखा हुआ है।

चीन ने पैंगोंग सो से 4 KM ईस्ट में रडार लगाए, भारत की हर गतिविधि पर रखना चाहता है नजर

चीनी लोगों को चीनी फ़ौज सारा सामान दे रही है ताकि वो दिन और रात लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल की निगरानी करने में साथ दे सके। इंडिया TV से भी जानकारी मिली है कि चीन ने अपने 73 एविएशन ब्रिगेड के साथ अभ्यास किया है, लेकिन सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण चीन की इंजीनियरिंग रेजिमेंट की एक्सरसाइज है इसमें 40 मिनट के अंदर पंटून ब्रिज बनाने की पूरी तैयारी। इन्होंने तिब्बत के इलाक़े में किया है। ये इलाक़ा ल्हासा के पास है, ये कुल मिलाकर 90 किलोमीटर वेस्ट में ल्हासा से पड़ता है।


Spread the love

1 COMMENT

  1. I needed to post you that very little remark to be able to thank you the moment again on your pretty suggestions you have provided on this page. This has been simply strangely open-handed with you to offer unhampered precisely what many people would’ve offered for sale for an ebook to help make some money on their own, particularly seeing that you might have tried it in case you desired. Those strategies in addition worked to become good way to know that some people have the identical keenness really like my personal own to realize much more when considering this matter. I believe there are several more pleasant sessions up front for people who read through your site.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here